घोड़ी

हाँ नी, हरया नी मालन, हरया नी भैणो,  

हरया ते भागी भाभी भरया।

हाँ नी, जिस दिहाड़े मेरा हरया नी जमदा,  

सोइयो दिहाड़ा भाभी भरया।

हां नी, जम्मदा हरया पट्  लपेटियां  

कुछड़ दिओनी एहनां माइयां ।

हाँ नी, न्हाता ते धोता हरया पट लपेटिया,  

कुछड़ दिओ सखीयां भेणां ।

हाँ नी, कुछ मिलया एनां माइयां ते दाइयां,  

की कुछ मिलया ऐनां सखियां भैंणा।

हां नी, पुछदी-पुछदी मालन नगर च आई,  

शादी वाला घर केहड़ा।

हां नी, उचड़े तम्बू मालन सबज कनातां  

नी शादी वाला घर ओहड़ा।

हां नी, आ मालन तूं बैठ दलीजे,  

कर सेहरे दा मुल्ल। हां नी,

इक लख सेहरा मालन दो लख मरुया,  

त्रय लख सेहरे दा मुल्ल।

हां नी, दे तूं सेहरा मेरे का हन चन्द मल्ला,  

बन लाला जीदे हत्थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *