मधाणियां 2 Madhaniya 2 punjabi Lok Geet

मेरी रांगली मधाणी बावां गोरियां

तेरे आवण दी उम्मीद विच मैं हौले-हौले, दुध रिड़का।

मेरी रांगली मधाणी…….

किसे दी नजर लगी, टुट गया साथ वे

तारे गिन-गिनके गुजारी सारी रात वे

दिल कम्बे अज साडी होसी मुलाकात वे

असां आसां नई मिलन दीयां तोड़ियां मैं हौले-हौले दुध रिड़का……

मेरी रांगली मधाणी…..

छोटे-मोटे झगड़े हमेशा होन्दे रहन्दे ने कदी-कदी ऐंज वी विछोड़े सहने पैंदे ने।

मैं ते नईं आखदी सियाने सारे कैन्दे ने, ऐनां गल्लां नाल टुटणा न

जोड़ियां मैं हौले-हौले दुध रिड़कां। मेरी रांगली मधाणी बावां गोरिया…….

अज दा नईं अजलां तों प्यार तेरे नाल वे, हो लवे तैनूं मैंथू
किदी ए मजाल ऐ, मार गई जुदाई तेरी कर ले ख्याल वे गल्ला बोतियां ते घड़िया ने थोड़ियां-

मैं हौले- हौले दुध रिड़कां ।

मेरी रांगली मधाणी बावां गोरिया…….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *