रघुनाथ बन्ना को Hindi LokGeet

इन गलियन होके लइयों जी, रघुनाथ बन्ना को।

शीश सोहे रेशम की पगिया, कलगी में अतर लगइयों जी, रघुनाथ बन्ना को।

कान बन्ने के कुंडल सोहें, चुनी पै अतर लगइयों जी, रघुनाथ बन्ना को।

अंग बन्ने के जामा सोहें, पटके में अतर लगइयों जी, रघुनाथ बन्ना को।

हाथ बन्ने के कंगना सोहें, लटन पै अतर लगइयों जी, रघुनाथ बन्ना को।

इन गलियन होके लइयों जी, रघुनाथ बन्ना को।।

विशेष—यह बन्ना “परदे के भीतर कर लो जी” वाली धुन पर ही गाया जाता है।

बन्ना तो मेरा लाडला, घड़ी चैनों पे मचला री बन्ना तो मेरा लाडला, घड़ी चैनों पे मचला री।

बन्ना तो मेरा लाडला बन्ने के शीश का चीरा जी.

चीरे पे पेंची दे रहा जी, बन्ना तो कलगी पे मचला जी….

बन्ना तो मेरा लाड़ला….

बन्ने के हाथ में कंगना रे, बन्ने के हाथ में मेहंदी रे,

मेहंदी को वो देखकर घड़ी चैनों पे मचला जी….बन्ना तो मेरा लाड़ला.

बन्ने के अंग में जामा जी, बन्ने के पैर में जूता जी.

बन्ने के संग में भाई जी. बन्ने के संग में डोला जी,

डोले को बन्ना देखकर वो तो बन्नी पै मचला री…

बन्ना तो मेरा लाड़ला घड़ी चैनों पे मचला री।

तमाशा हम भी देखेंगे बना है रघुनन्दन बन्ना, तमाशा हम भी देखेंगे।

बन्ने के शीश का सेहरा, लड़ी लड़ियों से उलझी है,

उलझने वाली लड़ियों का, तमाशा हम भी देखेंगे।

बना है रघुनन्दन बन्ना, तमाशा हम भी देखेंगे।

बन्ने के हाथ की घड़ियां, नजर कंगने पे उलझी है,

उलझने वाले कंगने का तमाशा हम भी देखेंगे।

बना है रघुनन्दन बन्ना, तमाशा हम भी देखेंगे।

बन्ने के पैर का जूता, नजर चाली से उलझी है,

उलझने वाली चाली का तमाशा हम भी देखेंगें।

बना है रघुनन्दन बन्ना, तमाशा हम भी देखेंगे।

बन्ने के संग हैं भैया, नजर महफिल पै उलझी है,

उलझने वाली महफिल का तमाशा हम भी देखेंगे।

बना है रघुनन्दन बन्ना, तमाशा हम भी देखेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *