वंगां दा गीत PUNJABI LOKGEET

शिखर दुपहरी वंगां वाला फिरदा,

नी कोई वंगा ले ओ चढ़ाय।

मैं तेरी सौंह कोई वंगां ले ओ चढ़ाय |

सास नहीं बोलदी, ननद नहीं बोलदी,

आपे वंगा लइयां नी चढ़ाय,

मैनूं तेरी सौंह आपे वंगा लइयां नी चढ़ाय।

बाहर तों आया माहिया हंसदा-खेड़दा,

भाभियां ने दित्ता नी सिखाय।

अन्दरों नी आया माही गुस्से विच भरिया,

सारी वंगां दित्ती तिड़काय ।

मैंनू तेरी सौं सारी वंगां दित्ती तिड़काय।

उट्ठो वे कहारो, साड्डा डोला पीड़ो,

पादो सानूं पैकड़े दी राह।

मैनूं तेरी सौं पादो सानूं पैकड़े दी राह ।

नाले मुंडे रन्ना मंगदे, हाय रन्ना मंगदे,

नाले भनदे मलूक जइयाँ हड्डियाँ ।

नाले सस्सां नूहां मंगी, नाले रोंदिया, हाय नाले रोंदिया

 गली दे गब्बे बैके।……….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *