वंगां PUNJABI LOKGEET

 मैनूं वंग न पसन्द कोई आवे मैं हट्टी-हट्टी टोलदी फिरां।

मेरे मन नूं न रंग कोई भावे, मैं हट्टी-हट्टी टोलदी फिरां ।

माही मेरे चिट्ठियां पाइयां

दिल दीयां दब्बीयां उस भड़काइयां।  

मैं कल जाणा मुकलावे, मैं हट्टी हट्टी डोलदी फिरां ।

 मैंनू वंग न …..

गजरे मैंनू सैनता मारन,

फुल ओहना दे कोल खलारन,

मेरा रु…..रुं मछरदा जावे, मैं हट्टी-हट्टी डौलदी फिरा।

 मैंने बंग न…

लाल उन्नाबी, पीले, काले,

सज्जन न मैनू बाहवां दुवाले,

मैं रंग लैने गूढ़े सारे मैं हट्टी हट्टी टोलदी फिरा।

 मैं वंग न ……

उसनूं मैं पाके सौहरिया दे जावां ।

जिंहदी छणक तैंको नचावे,

मैं हट्टी-हट्टी टोलदी फिरा।

मैंनू वंग न पसन्द कोई आवे..मैं हट्टी-हट्टी टोलदी फिरा।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *